When you miss the streets where you spent time with your friends

कहाँ फँस गए इस दुनिया के चक्कर में..अच्छे थे हम अपने जहाँ में.अब भी याद आता है वो गलियों में घुमना, जो थम गया है कही इस जहाँ में…

 

Suresh Inder

Jan 21 2016

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *